Click here for Myspace Layouts

नवंबर 21, 2011

दर्द


दर्द उस खोल का टूटना है, जो तुम्हारी समझ को घेरे रहता है | अपने दर्द के काफी अंश को तुम खुद चुनते हो |
                                           
  - खलील जिब्रान

9 टिप्‍पणियां:

  1. अपने दर्द के काफी अंश को तुम खुद चुनते हो ..बिल्‍कुल सच कहा है ... बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. hamari samajh ko gher rakhna hi behatar hai varna dard ke bina jivan bhi to nahi

    उत्तर देंहटाएं
  3. हर दर्द हमारे खुद के चुनाव से आता है...और हमारी नासमझी का ही सबूत है...बहुत सही कहा है खलील जिब्रान ने इस सुंदर सूत्र में. आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सत्य वचन .... समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/2011/11/blog-post_20.html

    उत्तर देंहटाएं
  5. कई बार पढ़ गयी...!.
    सही कहा है...
    अपने दर्द के जिम्मेदार हम खुद होते हैं...!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. खलील जी बहुत सही कहा आपने दर्द क के काफी अंश हम खुद चुनते है बहुत ही सुंदर
    मेरे ब्लॉग में स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत रोचक और सुंदर प्रस्तुति.। मेरे नए पोस्ट पर (हरिवंश राय बच्चन) आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...