Click here for Myspace Layouts

मई 27, 2013

एक ही कविता


मुझसे कहा जाता है, "इहलोक (भौतिक जगत) के भोग या परलोक की शांति में से किसी एक को चुन लो।"

और मैं उनसे कहता हूँ, "मैंने दोनों को ही चुन लिया है - इहलोक के आनंदों और परलोक की शांति को।"

"क्योंकि मैं जानता हूँ की उस विराट कवि ने एक ही कविता लिखी है । वही समझी भी पूर्णतया से जाती है और उसका गान भी पूर्ण रूप में संभव है।"

- ख़लील ज़िब्रान 


8 टिप्‍पणियां:

  1. कितनी सुंदर बात...उस विराट कवि ने एक ही कविता लिखी है..वह एक ही है..एक से ही अनेक हुए हैं..पूर्ण को स्वीकार करके ही पूर्ण को पाया जा सकता है..सुंदर भाव !

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्योंकि मैं जानता हूँ की उस विराट कवि ने एक ही कविता लिखी है । वही समझी भी पूर्णतया से जाती है और उसका गान भी पूर्ण रूप में संभव है।"

    - ख़लील ज़िब्रान
    बहुत सुन्दर..!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. लगता है आप ज़िब्रान के बहुत बड़े फैन हैं!
    आपका बहुत शुक्रिया आदरणीय अंसारी जी ऐसे महान व्यक्तित्व से रूबरू कराने के लिए।
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. Bhai Imran Ji
    Khleel Zibran ji ne Sahitya likhne ka ya koi bhi srijan karne ka tareeka bahut mukhtsar tareeke se samjaha diya hai.

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...