Click here for Myspace Layouts

अप्रैल 18, 2011

गहराई


जब प्रभु ने मुझे एक पाषाण-खण्ड की तरह संसार की इस अदभुत झील में फेंका, तो मैंने असंख्य वृत्ताकार लहरों के द्वारा इसकी शांत सतह को विक्षुब्ध कर दिया | किन्तु ज्यों-ज्यों मैं गहराई में बैठता गया, मैं शांत होता गया |

                                                         - खलील जिब्रान


6 टिप्‍पणियां:

  1. वाह,वाह,वाह!
    बहुत गहन भाव हैं !
    आभार इमरान जी!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर पोस्ट

    भगवान हनुमान जयंती पर आपको हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. संसार में आकर हर नया जीव कुछ न कुछ हलचल अवश्य पैदा करता है जिब्रान जैसे कुछ ही भाग्यशाली अपने भीतर उतर कर न केवल शांति का अनुभव स्वयं करते हैं बल्कि अन्यों को भी उसकी झलक से रूबरू करा जाते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीवन में जितनी भी हलचल है वह सतह पर ही है...गहन भीतर बस शांति ही शांति है...यह इंसान इंसान पर निर्भर करता है कि वह उसे महसूस कब करता हैं...! !

    और फिर शांति....शांति.....शांति.....!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आप की बहुत अच्छी प्रस्तुति. के लिए आपका बहुत बहुत आभार आपको ......... अनेकानेक शुभकामनायें.
    मेरे ब्लॉग पर आने एवं अपना बहुमूल्य कमेन्ट देने के लिए धन्यवाद , ऐसे ही आशीर्वाद देते रहें
    दिनेश पारीक
    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/
    http://vangaydinesh.blogspot.com/2011/04/blog-post_26.html

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप की बहुत अच्छी प्रस्तुति. के लिए आपका बहुत बहुत आभार आपको ......... अनेकानेक शुभकामनायें.
    मेरे ब्लॉग पर आने एवं अपना बहुमूल्य कमेन्ट देने के लिए धन्यवाद , ऐसे ही आशीर्वाद देते रहें
    दिनेश पारीक
    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/
    http://vangaydinesh.blogspot.com/2011/04/blog-post_26.html

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...