Click here for Myspace Layouts

मई 25, 2011

देवरूप



"यदि तुम अहंभाव, जाति और देश के बंधन से एक हाथ भी ऊपर उठ सको, तब तुम अपने को देवरूप में पाओगे|"
                                                             - खलील जिब्रान   


6 टिप्‍पणियां:

  1. मन में ज्ञान- ज्योति जलाता हृदयग्राही विचार !
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जाति और देश के बंधन से ऊपर कोई उठ भी जाये पर अहं फिर फिर नीचे ले आता है, एक हाथ तो क्या एक इंच भी उठ गए तो हमारा काम बन जायेगा....आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बिल्‍कुल सच कहा है ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. इमरान जी आपका ये प्रयास अनूठा है ...!!अब तक पता नहीं क्यों पकड़ में नहीं आया ..!!खैर ..देर आये दुरुस्त आये ...!!बधाई आपको इस प्रयास के लिए ...!!

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...