Click here for Myspace Layouts

जुलाई 05, 2011

धर्म


क्या हमारे समस्त कर्म और हमारी समस्त धारणायें ही धर्म नहीं हैं |
कौन है ? जो जीवन के हर एक पल को अपने सामने बिछाकर कह सकता है, " इतना ईश्वर का हिस्सा और इतना मेरी आत्मा के हिस्से में है, और इतना मेरे शरीर के हिस्से में |
तुम्हारा दैनिक जीवन ही तुम्हारा मंदिर और धर्म है | जब भी इसमें प्रवेश करो अपना सब कुछ साथ लेकर जाओ |
                                                                     - खलील जिब्रान

12 टिप्‍पणियां:

  1. कर्म ही धर्म है ..
    बिलकुल सही ..
    आभार मार्गदर्शन के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या हमारे समस्त कर्म और हमारी समस्त धारणायें ही धर्म नहीं हैं
    बिल्‍कुल सही कथन ... ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कितना सुकून देते हैं संतों के वचन, अद्भुत है खलील जिब्रान का दर्शन... अद्वैत झलकता है यहाँ... सबको स्वीकार करें तो कोई दुविधा बचती ही नहीं... दुई का खेल जब तक है तभी तक दुःख है आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. @ अनीता जी
    बिलकुल सही कहा है आपने.....संतवाणी तो अमृत के सामान है.....सच है जब तक 'दो' हैं 'एक' से मिलन संभव नहीं है|

    उत्तर देंहटाएं
  5. DHARM KE IS ASLI ROOP KO SAMAJH JAYE AGAR INSAAN
    TO DUNIYA KI SAARI TAKLIFEN HI KHATM HO JAAYE,KOI DHARM KE NAAM PAR LADTA HAI, KOI RAAJNITI KARTA HAI AUR KOI DHARM KE SAATH KHELTA HAI...SABSE KHATARNAK HAI DHARM SE KHELNA
    ...YAH INSAANIYAT KO SHARMSHAR KAR JAATA HAI!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सम्प्रेश्नियता की हदों के पार सुन्दर अभिव्यक्ति प्रकृति सी ही मनोरम.

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...