Click here for Myspace Layouts

जुलाई 27, 2011

शिक्षा

अपने शिष्यों के मध्य चलता हुआ गुरु उन्हें अपनी बुद्धि नहीं दे सकता, वह सिर्फ अपनी आस्था और अपना प्रेम बाँट सकता है वह तुमसे अपनी बुद्धि के भवन में प्रवेश करने को नहीं कहेगा, वह तुम्हे तुम्हारे अपने ही मस्तिष्क कि दहलीज़ पर ले जाएगा|
                                                                                   
                                                                        - खलील जिब्रान

4 टिप्‍पणियां:

  1. इस सार्थक प्रस्‍तुति के लिये आपका आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. गुरु स्वयं भी बुद्धि के पार जाकर ही गुरु बना है, वह जीता जागता प्रेम और आस्था का मंदिर है... वह हमें हम पर लौटा लाता है... बहुत सुंदर विचार, आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छा प्रयास है आपका.

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...