Click here for Myspace Layouts

अगस्त 11, 2011

मुक्ति


तुम्हारे दिनों पर किसी चिंता का भार न हो और तुम्हारी रातों पर किसी आभाव या पीड़ा का | तब तुम निश्चय ही मुक्त हो जाओगे |परन्तु तुम्हारी वास्तविक मुक्ति वही कहलाएगी, जब यह बाधाएँ तुम्हारे जीवन को घेरें रहें और इसके बावजूद तुम इनसे ऊपर उठ जाओ......नग्न और निर्बाध |
                                                                   - खलील जिब्रान

9 टिप्‍पणियां:

  1. जब यह बाधाएँ तुम्हारे जीवन को घेरें रहें और इसके बावजूद तुम इनसे ऊपर उठ जाओ ...गहन सच्‍चाई है इन शब्‍दों में ..आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. दुखों के बावजूद जो मुस्कान न मिटे, सच्ची है और मुक्ति भी व्ही सच्ची है जो चिता और अभाव के बावजूद हमे बंधन का अहसास न कराए ... बहुत सुंदर और अनुकरणीय विचार! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  3. खलील जिब्रान साहब के सभी विचार अनुकरणीय है हौसला बढ़ाने वाले हैं नमन उया दार्शनिक को और शुक्रिया कि आप ये विचार बाँट रहें हैं

    उत्तर देंहटाएं
  4. कल-शनिवार 20 अगस्त 2011 को आपकी किसी पोस्ट की चर्चा नयी-पुरानी हलचल पर है |कृपया अवश्य पधारें.आभार.
    Imran ji aap prashansaniya karya kar rahe hain.badhai aapko.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेनामीअगस्त 29, 2011

    गहन भावों का समावेश ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेरणादायी चिंतन.. शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...