Click here for Myspace Layouts

अक्तूबर 01, 2011

आत्मज्ञान


तुम्हारे हृदय का मौन तुम्हारे दिनों और रातों का ज्ञाता है | जिसे तुमने हमेशा से अपने विचारों में जाना है| उसे तुम शब्दों में भी जानना चाहते हो, आत्मज्ञान एक समुद्र है, असीम और आगाध...........
                                                      - खलील जिब्रान

7 टिप्‍पणियां:

  1. आत्मज्ञान एक समुद्र है, असीम और आगाध...
    बिल्‍कुल सच्‍ची बात ...आभार इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जो ज्ञाता है वही हमें मार्गदर्शन करता है.बहुत सुन्दर.आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  3. जो ज्ञाता है वही हमें मार्गदर्शन करता है.बहुत सुन्दर.आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. एकदम सही.....
    मौन में जानने के बाद ही ज्ञान मुखरित होता है...!
    ऐसा मेरा मानना है....शायद सही .....शायद गलत....!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर विचार... ज्ञाता ही ज्ञान है... मौन में दोनों एक हो जाते हैं... शब्दों में कहा नहीं जा सकता क्योंकि वह असीम है. अगाध भी ! दो विचारों के मध्य जो सूक्ष्म जगह है वहीं उसे जान सकते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  6. खलील जिब्रान के विचारों से अवगत कराने के निए धन्यवाद । मेरे पोस्ट पर भी आएँ ।

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...