Click here for Myspace Layouts

अक्तूबर 09, 2012

स्वप्नचर



एक गाँव में एक स्त्री और उसकी पुत्री रहती थी। इन्हें नींद में चलने की बीमारी थी। एक रात जब सारे संसार में निस्तब्धता छाई हुई थी, ये माँ-बेटी घूमती-घामती अपनी कोहरे की चादर से ढकी वाटिका में जा पहुँची और वहाँ परस्पर मिलीं ।

माँ ने बेटी से कहा " हाँ-हाँ , मुझे पता चल गया, मेरी शत्रु तू है जिसने मेरा यौवन नष्ट कर दिया है । तू ही है जिसने मेरे जीवन खंडहरों पर अपने जीवन भवन का निर्माण किया है । क्या ही अच्छा होता कि मैं पैदा होते ही तेरा गला घोंट देती ।

बेटी ने कहा " ए ! स्वार्थी बुढ़िया, तू मेरे और मेरे स्वतंत्र स्वभाव के बीच एक रोड़े के समान है । कौन मेरे जीवन को तेरे मुरझाये हुए जीवन का प्रतिबिम्ब मानेगा? क्या ही अच्छा हो कि ईश्वर तेरे जीवन का अंत कर दे।"

इसी समय मुर्गे ने बाँग दी और दोनों नींद से जागीं ।

बुढ़िया ने बड़े प्रेम से कहा " कौन, तुम हो प्यारी बेटी !"
पुत्री ने बड़े प्यार से उत्तर दिया "हाँ, मेरी प्यारी अम्मा !"    


10 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत गहन अभिव्यक्ति ......!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्वप्न और वास्तविकता का भेद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सिक्के के दो पहलू..गहन..

    उत्तर देंहटाएं
  5. ऐसा नहीं है कि वे दोनों सुबह झूठ कह रही होंगी, उनका प्रेम गहरा भले न हो, इस जगत में काम चलाने के लिए पर्याप्त था और उनके मन की गहराई में क्या चल रहा है उससे वे ही अनभिज्ञ थीं, ऐसा भी नहीं है, मानव मात्र मुखौटों को लगाये रहता है..खुद से भी अनजान बना रहता है तभी तो जो चाहता है पूरब जाना, मंजिल पर पहुंच कर देखता है तो पश्चिम निकलता है..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहा आपने अनीता जी इन्सान खुद ही नहीं जनता की उसके अचेतन में क्या छिपा है ।

      हटाएं
  6. आप सभी लोगों का बहुत बहुत शुक्रिया ।

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...